India Travel Tales

Solo trip

इधर नैनी झील – उधर चांदनी चौक !

इधर नैनी झील – उधर चांदनी चौक !

1. यात्रा सहारनपुर से नैनीताल की  2. काठगोदाम से भीमताल होते हुए नैनीताल 3.  नैनीताल – एक अलसाई हुई सुबह  4.  नैनी झील में बोटिंग  4.  चांदनी चौक रेस्टोरेंट – माल रोड नैनीताल की नैनी झील में आधा घंटा बोटिंग करने के…

काठगोदाम –  भीमताल – नैनीताल का बाज़ार

काठगोदाम – भीमताल – नैनीताल का बाज़ार

1. यात्रा सहारनपुर से नैनीताल की  2. काठगोदाम से भीमताल होते हुए नैनीताल 3.  नैनीताल – एक अलसाई हुई सुबह  4.  नैनी झील में बोटिंग, चिड़ियाघर, तल्लीताल, चांदनी चौक काठगोदाम स्टेशन से बाहर आकर जब नैनीताल के लिये शेयर टैक्सी तलाशनी…

यात्रा सहारनपुर से नैनीताल की

यात्रा सहारनपुर से नैनीताल की

1. यात्रा सहारनपुर से नैनीताल की  2. काठगोदाम से भीमताल होते हुए नैनीताल 3.  नैनीताल – एक अलसाई हुई सुबह  4.  नैनी झील में बोटिंग, चिड़ियाघर, तल्लीताल, चांदनी चौक उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में जन्म लेने और 1980 में बैंक…

नैनीताल की एक अलसाई सुबह

नैनीताल की एक अलसाई सुबह

1. यात्रा सहारनपुर से नैनीताल की  2. काठगोदाम से भीमताल होते हुए नैनीताल 3.  नैनीताल – एक अलसाई हुई सुबह  4.  नैनी झील में बोटिंग, चिड़ियाघर, तल्लीताल, चांदनी चौक चिड़ियों के चहचहाने से सुबह जल्दी ही आंख खुल गयी तो नैनीताल…

घुमक्कड़ी महाकुंभ – पर ये ओरछा है कहां?

घुमक्कड़ी महाकुंभ – पर ये ओरछा है कहां?

संभवतः आठ-दस दिन पहले की बात है जब सहारनपुर के दो मित्रों ने कहा कि उन्होंने फेसबुक पर मेरे द्वारा लगाये गये कुछ चित्र देखे जो ओरछा नामक किसी जगह के हैं। चित्रों से लगता है कि काफी सुन्दर जगह…

घुमक्कड़ों का कुम्भ – ओरछा में पहला दिन

घुमक्कड़ों का कुम्भ – ओरछा में पहला दिन

1. घुमक्कड़ों का कुंभ – ओरछा महामिलन 2. घुमक्कड़ों का कुम्भ -पहला दिन कुछ ऐसे आरंभ हुआ। 3. ओरछा – चतुर्भुज मंदिर 4. ओरछा – अभयारण्य यह तो आप जान ही चुके हैं कि घुमक्कड़ी दिल से नामक फेसबुक व…

घुमक्कड़ों का कुंभ – ’ओरछा मिलन’

घुमक्कड़ों का कुंभ – ’ओरछा मिलन’

1. घुमक्कड़ों का कुंभ – ’ओरछा मिलन’ (सहारनपुर से झांसी तक यात्रा) 2. ओरछा में पहला दिन – 3. ओरछा में दूसरा दिन और वापसी ’घुमक्कड़ी दिल से’ ग्रुप और मैं वर्ष 2011 के दौरान मैने पहला यात्रा संस्मरण ’ऐसे…

जयपुर दर्शन – प्रातःकालीन पैदल भ्रमण

जयपुर दर्शन – प्रातःकालीन पैदल भ्रमण

आज 29 फरवरी थी, यानि जयपुर प्रवास का हमारा अंतिम दिन !   पिछले दो दिनों में पुराने, यानि गुलाबी जयपुर को ठीक से देखने का अवसर नहीं मिल पाया था।  आज जयपुर को विदा कहने से पहले यदि पुराने…